दोस्तों ,

आप  चाहते  हैं  कि  आपको  विदेशी  वीज़ा  मिले , बाहर  जाएं  और  अच्छी  ज़िन्दगी  जियें ? इसके  लिए  आज  आप  मेरा  एक  काम  करिये |

किसी  सब्जी  वाले  के  पास  जाओ , उसे  अपनी  जेब  से  100  रुपये  निकाल  के  दो , उसे  बोलो  कि  लंगड़ा  आम  दे , वह  कहेगा  कि  इस  मौसम  में  मैं  दे  नहीं  सकता , आप  अपने  पैसे  बिना  वापस  लिए  खाली  हाथ  घर  वापस  आ  जाना | यानी  100  रुपये  का  नुकसान  करवा  आना |

अब  आप  कहोगे  कि  ऐसे  थोड़े  ही  होता  है , हम  पहले  सोच  समझ  के  दुकान  पर  जाते  हैं , सामान  चुनते  हैं , और  जब  वह  चीज़  मिल  जाती  है  तभी  उसके  पैसे  देते  हैं | चाहे  वह  सब्जी  हो , कपडे  हो , गैस  का  सिलिंडर  हो , बिजली  का  सामान  हो – हर  एक  चीज़  में  पहले  सामान  लिया  जाता  है  और  फिर  पैसे  दिए  जाते  हैं |

हम  लोग  पूरे  पैसे  तभी  देते  हैं  जब  हमें  सामान  मिल  जाता  है

तो  फिर  हम  लोग  वीज़ा  लेने  के  समय  ऐसा  क्यों  नहीं  करते  हैं ?

हम  लोग  एजेंटों  के  पास  जाते  हैं , पैसे  जमा  करवा  आते  हैं , और  अगर  वीज़ा  ना  मिले  तो  दिए  हुए  पैसे  भी  वापस  नहीं  लेते | इससे  बड़ी  दुःख  की  बात  यह  है  कि  हम  50-100  रुपये  नहीं , पूरे  दो – ढाई  लाख  रुपये  का  नुकसान  करवाते  हैं , और  वह  भी  केवल  एक  बार  में | हम  अपने  माँ – बाप  की  बरसों  की  मेहनत , चंद  मिनटों  में  मिट्टी  कर  आते  हैं |

ऐसा  करने  से  काम  तो  होता  नहीं , बस  नुकसान  ही  होता  है , लोगों  की  कोठियां  तक  बिक  जाती  हैं  |

दोस्तों , अगर  आप  चाहते  हो  कि  आपको  वीज़ा  मिले , तो  अपने  पूरे  पैसे  वीज़ा  लगने  के  बाद  ही  दो | क्योंकि  इससे  धन – संपत्ति  ही  नहीं , वीज़ा  लगने  से  पहले  पैसे  देने  पर  और  भी  कई  नुकसान  होते  हैं  |

1. गलत  उम्मीद  से  दुःख  होता  है

वीज़ा  ना  लगने  से  बन्दे  का  आत्मविश्वास (confidence)  काम  होने  लगता  है , यह  देख  कर  कि  उसके  दोस्तों  का  वीज़ा  आ  गया  मगर  उसका  खुद  का  नहीं  लगा | उसे  लगने  लगता  है  कि  उसमें  कोई  कमी  है , जबकि  असली  कमी  तो  उस  एजेंट  में  थी  जिसने  उसे  गलत  सलाह  दी | वीज़ा  लगने  के  लिए  सही  कोर्स  में  आवेदन (apply)  करना  चाहिए | एक  प्रमाणित (certified)  एजेंट  सच  बता  देता  है , अगर  उसे  लगे  कि  वीज़ा  नहीं  लगेगा , बजाये  इसके  कि  बच्चे  को  गलत  उम्मीद  देकर  पैसे  ठगे | वीज़ा  ना  लगने  से  कुछ  लोग  इतने  ज़्यादा  उदास  हो  जाते  है , कि  एक  प्रमाणित  एजेंट  के  पास  जाने  से  भी  कतराने  लगता  है , मनोबल  खोने  के  कारण , कि  क्या  फायदा  जब  वीज़ा  लगना  ही  नहीं | निराश  मत  हो , सारे  एजेंट  एक  जैसे  नहीं  होते , अच्छे  वाला  एजेंट  आपका  फायदा  ही  करवाएगा |

2. फ़ालतू  में  समय  बर्बाद  होता  है

एक  बार  वीज़ा  ना  लगने  के  कारण  एक  व्यक्ति  को  फिर  से  नया  एजेंट  ढूंढना  पढता  है , कई  बार  ऐसे  लोगों  को  5-6  बार  वीज़ा  के  लिए  नामंजूरी  (rejection)  मिलती  है  जिसके  चलते  वह  10-12  लाख  तक  खो  बैठते  हैं , कुछ  लोग  तो  कर्ज़ा  तक  ले  बैठते  हैं | मैंने  कुछ  ऐसे  IELTS Centre  भी  देखे  हैं  जिनके  पास  जब  बच्चे  पूछताछ  करने  आते  हैं  तो  उस  IELTS Centre  वाले  को  पता  होता  है  कि  उनका  वीज़ा  नहीं  लगेगा , फिर  भी  IELTS  की  तैयारी  करवाते  हैं | याद  रखिये , IELTS  होने  से  आपका  वीज़ा  लगना  आसान  हो  जाता  है  मगर  कुछ  देशों  में  यह  ज़रूरी  नहीं  होता | आप  IELTS  की  घर  बैठ  कर  तैयारी  कर  सकते  हैं  और  अच्छे  बैंड  भी  ला  सकते  हैं |

3. तकलीफें  झेलनी  पढ़ती  हैं

कभी  भी  किसी  अप्रमाणित (unregistered)  एजेंट  के  पास  मत  जाओ , वह  आपका  केवल  नुकसान  करेगा | कुछ  लोग  ऐसे  कहेंगे  कि  बस  थोड़े  से  रुपये  दो , आपको  वीज़ा  मिल  जायेगा | वह  चीनी (Chinese)  माल  की  तरह  अपने  धंधे  को  दिखाते  हैं , कि  सस्ता  है  इसलिए  ले  लो | मगर  असलियत  कुछ  और  ही  होती  है | मैं  ऐसे  लोग  भी  जानता  हूँ  जो  विदेश  जाना  चाहते  थे  पढ़ाई  के  लिए , उन्हें  किसी  एजेंट  ने  नौकरी  का  झांसा  दिया , उनसे  पैसे  ले  लिए , और  वह  भोले -भले  लोग  घर  बैठ  गए | इससे  अच्छा  रहता  कि  वह  अध्ययन (study)  के  लिए  चले  जाते , जिसमें  विदेश  जाना  आसान  है |

4. जीना  मुश्किल  हो  जाता  है

वीज़ा  ना  मिलने  के  कारण  वह  व्यक्ति  यहीं  का  होकर  रह  जाता  है | जो  फिर  भी  थोड़ा  बहुत  पढ़ा  हुआ  होता  है , वह  तो  दिल्ली – बैंगलोर  जाकर  किसी  अच्छी  कंपनी  में  नौकरी  कर  सकता  है , समस्या  तो  उन  लोगों  को  आती  है  जो  इतने  पढ़े  हुए  या  फिर  अमीर  नहीं  होते | यहां  उन्हें  अच्छी  नौकरियां  मिलती  नहीं , और  जो  मिलता  है  उसमें  रोज़  के  खर्चे  निकलते  नहीं | वीज़ा  अस्वीकार (refusal)  होने  के  बाद  ऐसे  लोग  यहां  रहकर  वह  काम  नहीं  कर  पाते  जिनकी  उनमें  क्षमता  होती  है | एप्पल  और  फेसबुक  जैसी  कंपनियों  का  बढ़िया  काम  केवल  विदेश  में  ही  हो  सकता  है , यहां  नहीं | जो  लोग  विदेश  चले  जाते  हैं , वह  आगे  निकल  जाते  हैं , अच्छी  ज़िन्दगी  बिताते  हैं , बड़े – बड़े  घर  बनाते  हैं | अच्छे  लोग  मुश्किलें  ना  झेलें , इसलिए  ज़रूरी  है  कि  वह  विदेश  जाने  की  कोशिश  करें  |

5. लालची  एजेंटों  को  प्रोत्साहन  मिलता  है

आप  जानते  हैं  कि  वीज़ा  एजेंट  काम  होने  से  पहले  पैसे  क्यों  लेते  हैं ? क्योंकि  लोग  खुद  उन्हें  काम  होने  से  पहले  पैसे  देते  हैं | महान  कवि  Shakespeare  ने  कहा  था  कि  “security is mortals chiefest enemy”  यानी  कि  सुरक्षा  का  एहसास  होना  एक  मनुष्य  का  सबसे  बड़ा  दुश्मन  है | जब  किसी  एजेंट  को  पहले  पैसे  मिल  जाते  हैं , तो  बहुत  से  लोग  अपना  काम  ठीक  से  करने  के  लिए  प्रेरित (motivated)  महसूस  नहीं  करते  हैं | उन्हें  फ़र्क़  नहीं  पढ़ता  कि  बच्चे  को  वीज़ा  ना  मिले , क्योंकि  उन्हें  तो  अपने  पैसे  मिल  गए  होते  हैं | यही  अगर  उन्हें  कहा  जाए  कि  पैसे  तभी  मिलेंगे  जब  वीज़ा  आएगा , तो  वह  वीज़ा  दिलवाने  के  लिए  ज़्यादा  गंभीर (serious)  हो  जाएंगे  |

पूरे  पैसे  वीज़ा  लगने  के  बाद

दोस्तों , एक  अच्छा  एजेंट  आपको  सही  रास्ते  से  विदेश  पहुंचा  देता  है | मेरी  आपको  नेक  सलाह  है  कि  आप  जिस  भी  एजेंट  के  पास  जाओ , उसे  कहो  कि  आप  पूरे  पैसे  वीज़ा  लगने  के  बाद  ही  दोगे | इससे  आपके  प्रतिषेध (refusal)  वाले  पैसे  भी  बचेंगे , समय  पर  सब  काम  हो  जाएगा , आपका  मनोबल  भी  बना  रहेगा  और  आपके  वीज़ा  मिलने  की  संभावना  बढ़  जायेगी |

angels-office-1

मैं  यह  नहीं  कहता  हूँ  कि  मैं  सबसे  अच्छा  हूँ , मगर  मैं  सबसे  अच्छा  बनने  की  कोशिश  ज़रूर  करता  हूँ

  • मेरी कंपनी  सरकार  द्वारा  रजिस्टर्ड  है
  • ICEF agency और  AIRC certified  भी  है
  • मेरे चंडीगढ़ , मोहाली , अमृतसर  और  जालंधर  में  दफ्तर  हैं
  • हर महीने  मेरी  टीम  बहुत  से  वीज़े  लगवाती  है
  • हमारे ज़रिये  लोगों  के  4-5 refusal  के  बाद  भी  वीज़े  लगे  हैं
  • हमने 5  साल  गैप  और  33%  नंबर  वाले  लोगों  के  भी  वीज़े  लगवाए  हैं
  • हम  पूरे  पैसे  वीज़ा  लगने  के  बाद  ही  लेते  हैं

अधिक  जानकारी  के  लिए  हमें  निम्नलिखित  नम्बरों  पर  संपर्क  करें |

For help regarding your VISA, you may contact us at:

Book Online Appointment

+91-73075-30886

Live Chat

logo-available_on_the_app_storelogo-_android-_google-_play-_store-_app-_internal-001